आल्हा खण्ड

आल्हा खण्ड जगनिक

आल्हा खण्ड

जगनिक | रौद्र रस | रीतिकाल

खट-खट-खट-खट तेगा बाजै। बोलै छपक-छपक तलवार।
चलै जुनब्बी औ गुजराती। ऊना चलै बिलायत क्यार॥
तेगा चटकैं बर्दवान के। कटि-कटि गिरैं सुघरुआ ज्वान।
पैदल के संग पैदल अभिरे। औ असवारन ते असवार॥
हौदा के संग हौदा मिलिगै। ऊपर पेशकब्ज की मार॥
कटि-कटि शीश गिरै धरनी में। उठि-उठि रूंड करै तलवार।
आठ कोस के तहँ गिरदा में। अंधाधुंध चलै तलवार।
पैग-पैग पर पैदल गिरिगे। उनके दुइ-दुइ पग असवार।
बिसे बिसे पर हाथी डोरे। छोटे पर्वत की उनहार।
कल्ला कटिगै जिन घोडन के। धरती गिरे भरहरा खाय॥
कटे भुसुंडा जिन हाथिन के। दल में गिरैं करौटा खाय।
कटि भुजदंडै रजपूतन की। चेहरा कटि सिपाहिन क्यार॥
दोनों सेना एकमिल हो गईं। ना तिल परै धरनि में जाय।
ज्यों सावन में छूटै फुहारा। त्यों है चलै रक्त की धार॥

परे दुशाला जो लो में जनु नद्दी में परो सिवार।
पगिया डारी जे लोहु में। मानो ताल फूल उतरायँ॥
परी शिरोही हैं ज्वानन की। मानो नाग रहे मन्नाय।
घैहा डारे रण में लोटैं। जिनके प्यास-प्यास रट लागि॥
मुर्चन-मुर्चन नचै बेंदुला। ऊदनि कहै पुकारि-पुकारि॥
नौकर चाकर तुम नाहीं हौ। तुम सब भैया लगौ हमार।
पाँव पिछाडी को ना धरियो। यारौ रखियो धर्म हमार॥
सन्मुख लडिकै जो मरि जैहो। हुइहै जुगन-जुगन लौं नाम।
दै-दै पानी रजपूतन को। ऊदनि आगे दियो बढाय॥
झुके सिपाही महुबे वारे। जिनके मार-मार रट लागि।
यहाँ कि बातैं तो यहाँ छोडो। अब आगे के सुनो हवाल॥
लाखिन बोले पृथीराज ते। तुम सुनि लेउ वीर चौहान।
है कोउ क्षत्री तुम्हारे दल में। सन्मुख लडै हमारे साथ॥

यह सुनि पिरथी बोलन लागे। लाखन सुनो हमारी बात।
बारह रानिन के इकलाता। औ सोलै के सर्व सिंगार॥
आस लकडिया हौ जैचंद की। नाहक देहौ प्राण गँवाय।
कही हमारी लाखनि मानौ। तुम समुहे ते जाउ बराय॥
घुंडी खोली तब लाखनि ने। समुहे छाति दई अडाय।
बोले लाखनि पृथीराज ते। तुम सुनि लेउ पिथौरा राय॥
हिरणाकुश सतयुग में हृइगौ। जाने कियो अखंडित राज।
सो ना अमर भयो पृथवी पर। अब क्या अमर कनौजीराय॥
द्वापर में राजा दुर्योधन। हृइगै बहुत बली सरनाम।
सोनहिं अमर भये धरती पर। अब क्या अमर कनौजीराय॥

अपने विचार साझा करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com