बरवै भक्तिपरक

बरवै भक्तिपरक रहीम

बरवै भक्तिपरक

रहीम | शांत रस | भक्तिकाल

बन्‍दौ विघन-बिनासन, ऋधि-सिधि-ईस ।
निर्मल बुद्धि-प्रकासन, सिसु ससि सीस ।।1।।

सुमिरौ मन दृढ़ करकै, नन्‍दकुमार ।
जे वृषभान-कुँवरि कै प्रान-अधार ।।2।।

भजहु चराचर-नायक, सूरज देव ।
दीन जनन सुखदायक, तारन एव ।।3।।

ध्‍यावौ सोच-बिमोचन, गिरिजा-ईस ।
नागर भरन त्रिलोचन, सुरसरि-सीस ।।4।।

ध्‍यावौं विपद-विदारन सुअन-समीर ।
खल दानव वनजारन प्रिय रघुवीर ।।5।।

पुन पुन बन्‍दौ गुरु के, पद जलजात ।
जिहि प्रताप तैं मन के तिमिर बिलात ।।6।।

करत घुम‍ड़ घन-घुरवा, मुरवा रोर ।
लगि रह विकसि अँकुरवा, नन्‍दकिसोर ।।7।।

बरसत मेघ चहूँ दिसि, मूसरधार ।
सावन आवन कीजत, नन्‍दकुमार ।।8।।

अजौं न आये सुधि के, सखि घनश्‍याम ।
राख लिये कहुँ बसि कै, काहू बाम ।।9।।

कबलौं रहिहै सजनी, मन में धीर ।
सावन हूँ नहिं आवन, कित बलबीर ।।10।।

घन घुमड़े चहुँ ओरन, चमकत बीज ।
पिय प्‍यारी मिलि झूलत, सावन तीज ।।11।।

पीव पीव कहि चातक, सठ अधरात ।
करत बिरहिनी तिय के, हित उतपात ।।12।।

सावन आवन कहिगे, स्‍याम सुजान ।
अजहुँ न आये सजनी, तरफत प्रान ।।13।।

मोहन लेउ मया करि, मो सुधि आय ।
तुम बिन मीत अहर-निसि, तरफत जाय ।।14।।

बढ़त जात चित दिन-दिन, चौगुन चाव ।
मनमोहन तैं मिलवौ राखि क दॉंव ।।15।।

मनमोहन बिन देखे, दिन न सुहाय ।
गुन न भूलिहौं सजनी, तनक मिलाय ।।16।।

उमिड़-उमिड़ घन घुमड़े दिसि बिदिसान ।
सावन दिन मनभावन, करत पयान।।17।।

समुझत सुमुखि सयानी, बादर झूम ।
बिरहिन के हिय भभकत तिनकी धूम ।।18।।

उलहे नये अँकुरवा, बिन बलबीर ।
मानहु मदन महिप के बिन पर तीर ।।19।।

सुगमहि गातहि का रन जारत देह ।
अगम महा अति पान सुघर सनेह ।।20।।

मनमोहन तुव मूरति, बेरिझवार ।
बिन पयान मुहि बनिहै, सकल विचार ।।21।।

झूमि झूमि चहुँ ओरन, बरसत मेह ।
त्‍यों त्‍यों पिय बिन सजनी, तरफत देह ।।22।।

झूँठी झूँठी सौंहैं हरि नित खात ।
फिर जब मिलत मरू के, उतर बतात ।।23।।

डोलत त्रिबिध मरुतवा, सुखद सुढार ।
हरि बिन लागत सजनी, जिमि तरवार ।।24।।

कहियो पथिक सँदेसवा, गहि कै पाय ।
मोहन तुम बिन तनकहु, रह्यो न जाय ।12511

जब ते आयौ सजनी, मास असाढ़ ।
जानी सखि वा तिय के, हिय की गाढ़ ।।26।।

मनमोहन बिन तिय के, हिय दुख बाढ़ ।
आयौ नन्‍द-ढोठनवा, लगत असाढ़ ।।271।

वेद पुरानबखानत, अधम-उधार ।
केहि कारन करुनानिधि, करत विचार ।।28।।

लगत असाढ़ कहत हो, चलन किसोर ।
घन घुमड़े चहुँ ओरन, नाचत मोर ।।29।।

लखि पावस ऋतु सजनी, पिय परदेस ।
गहन लग्‍यौ अबलनि पै, धनुष सुरेस ।।30।।

बिरह बढ्यौ सखि अंगन, बढ़यौ चबाव ।
कर्यौ निठुर नन्‍दन्‍दन, कौन कुदाव? ।।31।।

भज्‍यो किते न जनम भरि, कितनी जाग ।
संग रहत या तन की, छाँही भाग ।।32।।

भज रे मन नंदनन्‍दन, बिपति बिदार ।
गोपी जन-मन-रंजन, परम उदार ।।33।।

जदपि बसत है सजनी, लाखन लोग ।
हरि बिन कित यह चित को, सुख संजोग ।।34।।

जदपि भई जल-पूरित, छितव सुआस ।
स्‍वाति बूँद बिन चातक, मरत पिआस ।।35।।

देखन ही को निस दिन, तरफत देह ।
यही होत मधुसूदन, पूरन नेह? ।।36।।

कब ते देखत सजनी, बरसत मेह ।
गनत न चढ़े अटन पै, सने सनेह ।।37।।

बिरह बिथा ते लखियत, मरिबौ भूरि ।
जौ नहिं मिलिहै मोहन, जीवन मूरि ।।38।।

ऊधो भलो न कहनौ, कछु पर पूठि ।
साँचे ते भे झूठे, साँची झूठि ।।39।।

भादों निस अँधिअरिया घर अँधिआर ।
बिसर्यो सुघर बटोही, शिव आगार ।।40।।

हौं लखिहौं री सजनी, चौथ-मयंक ।
दखौं केहि विधि हरि सों लगै कलंक ।।41।।

इन बातन कछु होत न कहो हजार ।
सब ही तैं हँसि बोलत, नंद-कुमार ।।42।।

कहा छलत हो ऊधो, दै परतीति ।
सपनेहू नहिं बिसरै, मोहन-मीति ।।43।।

बन उपवन गिरि सरिता, जिती कठोर ।
लगत दहे से बिछुरे, नंदकिसोर ।।44।।

भलि भलि दरसन दीनेहु, सब निसि-टारि ।
कैसे आवन कीनेहु, हौं बलिहारि ।।45।।

आदिहि ते सब छुटि गा, जग ब्‍यौहार ।
ऊधो अब न तिनौ भरि, रही उधार ।।46।।

घेर रह्यौ दिन रतियाँ, बिरह बलाय ।
मोहन की वह बतियाँ, ऊधो हाय! ।।47।।

नर नारी मतवारी, अचरज नाहिं ।
होत विटप हू नाँगे फागुन माँहि ।।48।।

सहज हँसोई बातें, होत चबाइ ।
मोहन को तनि सजनी, दै समुझाइ ।।49।।

ज्‍यों चौरासी लख में, मानुष देह ।
त्‍यों ही दुर्लभ जग में, सहज सनेह ।।50।।

मानुष तन अति दुर्लभ, सहजहि पाय ।
हरि-भजि कर सत संगति, कह्यौ जताय ।।51।।

अति अद्भूत छबि सागर, मोहन गात ।
देखत ही सखि बूड़त, दृग जलजात ।।52।।

निमरेही अति झूठौ, साँवर गात ।
चुभ्‍यौ रहत चित को धौं, जानि न जात ।।53।।

बिन देखे कल नाहि न, इन अँखियान ।
पल पल कटत कलप सौं, अहो सुजान ।।54।।

जब तक मोहन झूँठी, सौंहें खात ।
इन बातन ही प्‍यारे, चतुर कहात ।।55।।

ब्रज-बासिन के मोहन, जीवन-प्रान ।
ऊधो यह सँदेसवा, अकह कहान ।।56।।

मोहि मीत बिअन देखे, छिन न सुहात ।
पल पल भरि भरि उलझत, दृग जलजात ।।57।।

जब ते बिछुरे मितवा, कहु कस चैन ।
रहत भर्यो हिय साँसन, आँसुन नैन ।।58।।

कैसे जीवत कोऊ, दूरि बसाय ।
पल अन्‍तर हू सजनी, रह्यो न जाय ।।59।।

जान कहत हों ऊधो, अवधि बताइ ।
अवधि अवधि लों दुस्‍तर, परत लखाइ ।।60।।

मिलन न बनिहै भाखत, इन इक टूक ।
भये सुनत ही हिय के, अगनित टूक ।।61।।

गये हेरि हरि सजनी, बिहँस कछूक ।
तब ते लगनि अगिनि की, उठत भबूक ।।62।।

मनमोहन की सजनी, हँसि बतरान ।
हिय कठोर कीजत पै, खटकत आन ।।63।।

होरी पूजत सजनी जुर नर नारि ।
हरि बिनु जानहु जिय में, दई दवारि ।।64।।

दिस बिदसान करत ज्‍यों, कोयल कूक ।
चतुर उठत है त्‍यों त्‍यों, हिय में हूक ।।65।।

जब तें मोहन बिछूरे, कछु सुधि नाहिं ।
रहे प्रान परि पलकनि, दृग मग माहिं ।।66।।

उझकि उझकि चित दिन दिन, हेरत द्वार ।
जब ते बिछुरे सजनी, नन्‍दकुमार ।।67।।

जक न परत बिन हेरे, सखिन सरोस ।
हरि न मिलत बसि नेरे, यह अफसोस ।।68।।

चतुर मया करि मिलिहौं, तुरतहिं आय ।
बिन देखे निसबासर, तरफत जाय ।।69।।

तुम सब भाँतिन चतुरे, यह कल बात ।
होरी से त्‍यौहारन, पीहर जात ।।70।।

और कहा हरि कहिये, धनि यह नेह ।
देखन ही को निसदिन तरफत देह ।।71।।

जब ते बिछुरे मोहन, भूख न प्‍यास ।
बेरि बेरि बढ़ि आवत, बड़े उसास ।।72।।

अन्‍तरगत हिय बेधत, छेदत प्रान ।
विष सम परम सबन तें, लोचन बान ।।73।।

गली अँधेर मिल कै, रहि चुपचाप ।
बरजोरी मनमोहन, करत मिलाप ।।74।।

सास ननद गुरु पुरजन, रहे रिसाय ।
मोहन हू अस निसरे, हे सखि हाय! ।।75।।

उन बिन कौन निबाहै, हित की लाज ।
ऊधो तुमहू कहियो, धनि ब्रजराज ।।76।।

जेहिके लिये जगत में बजै निसान ।
तेहिते करे अबोलन, कौन सयान ।।77।।

रे मन भज निस बासर, श्री बलबीर ।
जे बिन जॉंचे टारत, जन की पीर ।।78।।

बिरहिन को सब भाखत, अब जनि रोय ।
पीर पराई जानै, तब कहु कोय ।।79।।

सबै कहत हरि बिछुरे, उर धर धीर ।
बौरी बाँझ न जानै, ब्‍यावा पीर ।।80।।

लखि मोहन की बंसी, बंसी जान ।
लागत मधुर प्रथम पै, बेधत प्रान ।।81।।

कोटि जतन हू फिरतन बिधि की बात ।
चकवा पिंजरे हू सुनि बिमुख बसात ।।82।।

देखि ऊजरी पूछत, बिन ही चाह ।
कितने दामन बेचत, मैदा साह ।।83।।

कहा कान्‍ह ते कहनौ, सब जग साखि ।
कौन होत काहू के, कुबरी राखि ।।84।।

तैं चंचल चित हरि कौ, लियौ चुराइ ।
याही तें दुचिती सी, परत लखाइ ।।85।।

मी गुजरद ई दिलरा, बेदिलदार ।
इक इक साअत हम चूँ, साल हज़ार ।।86।। (फ़ारसी)

नवनागर पद परसी, फूलत जौन ।
मेटत सोक असोक सु, अचरज कौन ।।87।।

समुझि मधुप कोकिल की, यह रस रीति ।
सुनहु श्‍याम की सजनी, का परतीति ।।88।।

नृप जोगी सब जानत, होत बयार ।
संदेसन तौ राखत, हरि ब्‍यौहार ।।89।।

मोहन जीवन प्‍यारे कस हित कीन ।
दरसन ही कों तरफत, ये दृग मीन ।190।।

भज मन राम सियापति, रघुकुल ईस ।
दीनबंधु दुख टारन, कौसलधीस ।।91।।

भज नरहरि, नारायन, तजि बकवाद ।
प्रगटि खंभ ते राख्‍यो, जिन प्रहलाद ।।92।।

गोरज-धन-बिच राखत, श्री ब्रजचंद ।
तिय दामिनि जिमि हेरत, प्रभा अमंद ।।93।।

ग़र्कज़ मै शुद आलम, चंद हज़ार ।
बे दिलदार के गीरद, दिलम करार ।।94।। (फ़ारसी)

दिलबर ज़द बर जिगरम, तीरे निगाह ।
तपदि' जाँ मीआयद, हरदम आह ।।95।। (फ़ारसी)

कै गायम अहवालम, पेशे-निगार ।
तनहा नज़र न आयद, दिल लाचार ।।96।। (फ़ारसी)

लोग लुगाई हिल मिल, खेलत फाग ।
पर्यौ उड़ावन मोकौं, सब दिन काग ।।9711

मो जिय कौरी सिगरी, ननद जिठानि ।
भई स्‍याम सों तब त, तनक पिछानि ।।98।।

होत विकल अनलेखे, सुघर कहाय ।
को सुख पावत वजनी, नेह लगाय ।।99।।

अहो सुधाकर प्‍यारे, नेह निचोर ।
देखन ही कों तरसै, नैन चकोर ।।100।।

आँखिन देखत सब ही, कहत सुधारि ।
पै जग साँची प्रीत न, चातक टारि ।।101।।

पथिक पाय पनघटवा कहत पियाव ।
पैयाँ परौं ननदिया, फेरि कहाव ।।102।।

बरि गइ हाथ उपरिया, रहि गइ आगि ।
घर कै बाट बिसरि गई, गुहनैं लागि ।।103।।

अनधन देखि लिलरवा, अनख न धार ।
समलहु दिय दुति मनसिज, भल करतार ।।104।।

जलज बदन पर थिर अलि, अनखन रूप ।
लीन हार हिय कमलहि, डसत अनूप ।।105।।

अपने विचार साझा करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com