अब नया संकल्प लें  शशांक दुबे

अब नया संकल्प लें

शशांक दुबे

अब न हम विकल्प लें।
नित नया संकल्प लें।।
 

वसुधा है बंजर सी, न अब कानन घने हैं
झुलसे है शेष वृक्ष, लगते अनमने हैं।।
न बरगद पीपल है, न वह छाँव घनी है।
मरूस्थल से गाँव हैं, फैली सनसनी है।।
वृक्ष लगाना ही है अब
क्यों न मन में ठान लें.......
नित नया संकल्प लें........
अब न हम विकल्प लें।
 

धूल धुंआ शोर से, पटा हुआ शहर
प्रदूषण है ढा रहा, नित्य ही कहर
यत्र तत्र कचरा, पॉलीथीन हैं पटे
मच्छर और मक्खियाँ, खाने से सटे
स्वच्छता लाना ही है अब
क्यों न मन में ठान लें.......
नित नया संकल्प लें........
अब न हम विकल्प लें।
 

शादियों का बचा, खाना है पड़ा
एक बेटा गरीब का, भूखा है खड़ा।
बना रहे व्यंजन, छप्पन प्रकार के
फेंक रहे खाना, बच्चों को मार के
अन्न बचाना ही है अब
क्यों न मन में ठान लें......
नित नया संकल्प लें.......
अब न हम विकल्प लें।
 

सूखी पड़ी है नदियाँ, रीते तालाब हैं।
सूखा है भू जल, दुःख का सैलाब है।
प्यासी है आधी दुनिया, प्यासे वे लोग हैं।
जिनको मिला प्रचुर, करते दुरूपयोग हैं।
पानी बचाना ही है अब
क्यों न मन में ठान लें......
नित नया संकल्प लें.......
अब न हम विकल्प लें।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
861
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com