समर्पण  Ravi Panwar

समर्पण

Ravi Panwar

ये वही स्वपन हैं प्रिये
जब हम दो से एक हुए,
वही मेरी साड़ी का छोर
और तुम्हारे हाथ पर बंधा रुमाल,
हमारे परिणय पर उठ चुके थे कितने सवाल,
कितनी प्रसन्न थी मैं
तुमसे मिलने को,
सुनने को बेसब्र, वो शब्दों की माया,
सुभानअल्लाह ये घूंघट में चाँद कहाँ से आया।
 

तुम मौन थे,
किन्तु तुम्हारी आँखें बोल रही थी,
जीवन की तुला में
मैं अपने भाग्य को तौल रही थी,
प्यार नहीं था, किन्तु धन्यवाद,
तुमने मुझे माँ बनने का गौरव तो दिया,
अब ज़िन्दगी बोझ नहीं लगती,
कितने साल हो गए, तुम यहाँ मैं यहाँ।
 

दिवाली के दीप, होली का गुलाल,
तीज पर झूले बाँध, इंतज़ार करता वो करवाचौथ का चाँद,
सब आते हैं मुझसे मिलने
पर तुम क्यों नहीं आते,
और अब आए हो, तो क्यों लाए हो
मेरे लिए वो निरर्थक शब्द
जिसे तलाक कहते हैं,
मैं रह गयी थी सिमटकर,
मेरी बेटी भी रोई थी मुझसे लिपटकर,
माँ क्यों ये रिश्ता हमारे खिलाफ हो गया,
मेरे पिता का मुझसे तलाक़ हो गया।
 

फिर एक औरत अपमान सह रही थी,
जाते-जाते उनसे कह रही थी,
छलका जो आँसू उसे मोती बना लूँगी,
आई जो अमावस तो दिवाली मना लूँगी,
राह में मिल गया अगर कहीं,
तो तुमसे नज़रें चुरा लूँगी।
कुछ रिश्तो में अल्फ़ाज़ नहीं होते,
हालातो में अक्सर जज़्बात नहीं होते,
समाज से पूछता हैं जब रवि,
तो कुछ सवालो के जवाब नहीं होते।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
1513
बार देखा गया

पसंद करें

  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 8881813408
Mail : info[at]maatribhasha[dot]com