कल जो बीता  VIMAL KISHORE RANA

कल जो बीता

VIMAL KISHORE RANA

पल में बीता, हल में बीता,
छल में बीता जो भी जीवन,
कल से बीता, कल में बीता,
कल जो बीता वो भी जीवन।
 

नए-नए मौसम, नए दृश्यचित्र,
होते पुतिन नए वृतचित्र,
जीवन की चक्रवत धुरी,
समय सम्पूर्ण, इच्छा अधूरी।
सहता बहता सा जलप्रवाह,
हल्का नीला सा आसमाँ,
मीठी-मीठी सी धुन कोई,
सरसों महकी, महगुण कोई,
बचपन की चंचल सी हँसी,
उपवन में हलचल सी कभी।
 

क्यों पर हैं पंछी को मिले,
क्यों गुल हैं लगते बस खिले,
क्यूंकर कूकी कोयल मधुर,
क्यों घुलता सा कल-कल स्वर।
सावन का पावन सा मल्हार,
होता हो ज्यों स्वप्न साकार,
स्वप्न रहता जो नयनों में,
दर्पण कहता मृगनयनों में,
बहता कल था, कल जो बीता,
कल रह गया रीता-रीता।
 

क्षय हो परिवर्तन के संग-संग,
न हो पाए अब चित्त मलंग,
चित्त की इच्छा, मन का स्वप्न,
परिवर्तित मन, सब परिवर्तन।
कल भी बदला, बदला जो आज,
बदला जीवन बदला समाज।
छुपता अंबर दीवारों में,
धुन खो गई अंगारों में,
कोयल की धुन, पंछी का राग,
अब शेष वन में ही प्रयाग।
महकी हरियाली की महक,
अब कहाँ गूंजी सी चहक,
सावन आता है, जाता है,
कब, कौन, क्या सँजो पाता है।
 

कहते नयनों का सूनापन,
पिंजरे में व्यथित मन स्वप्न,
पल भी बीता, कल भी बीता,
पल से पहले हर कल बीता,
बीते जो कल, बीते जो आज,
बदले जो जीवन और समाज।
 

कल-कल करके कलयुग होगा,
जाने कब तक कलयुग होगा।
जाने कब तक कलयुग होगा।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
1030
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com