चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में  शशांक दुबे

चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में

शशांक दुबे

हम-तुम दोनों एक हो जाएँ होली में,
चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में।
 

बासंती उन्माद भरा है, देखो कलियन-कलियन में,
प्रेम रंग कैसा बिखरा है, देखो गलियन-गलियन में।
इन भावों को क्यों न भरें हम, बोलो अपनी झोली में,
चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में।
 

अमुआ डाली पे बैठ वो, मीठी तान सुनाती है,
है तो कोयल काली लेकिन, मन को बहुत रिझाती है।
शब्द मधुर हम भरते जाएँ, क्यों न अपनी बोली में,
चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में।
 

नीला हरा लाल और पीला हो गए गाल गुलाबी हैं,
नशा चढ़ा रंगों का ऐसा हो गई चाल शराबी है,
रंग सभी हम भरते जाएँ जीवन की रांगोली में,
चलो दिलों में प्यार जगाएँ होली में,
तन-मन दोनों खूब भिगाएँ होली में।
 

द्वेष राग न मन में लाएँ होली में,
संबंधों को दिल से निभाएँ होली में,
दुश्मन को भी गले लगाएँ होली में,
टूटे रिश्ते फिर से बनाएँ होली में,
जीवन कटता जाए हँसी ठिठोली में,
हम-तुम दोनों एक हो जाएँ होली में।

अपने विचार साझा करें




0
ने पसंद किया
617
बार देखा गया

पसंद करें


  परिचय

"मातृभाषा", हिंदी भाषा एवं हिंदी साहित्य के प्रचार प्रसार का एक लघु प्रयास है। "फॉर टुमारो ग्रुप ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग" द्वारा पोषित "मातृभाषा" वेबसाइट एक अव्यवसायिक वेबसाइट है। "मातृभाषा" प्रतिभासम्पन्न बाल साहित्यकारों के लिए एक खुला मंच है जहां वो अपनी साहित्यिक प्रतिभा को सुलभता से मुखर कर सकते हैं।

  Contact Us
  Registered Office

47/202 Ballupur Chowk, GMS Road
Dehradun Uttarakhand, India - 248001.

Tel : + (91) - 7534072808
Mail : info@maatribhasha.com